Sunday, April 4, 2021

DNA kya hota hai ? DNA की संरचना इन हिंदी

By:   Last Updated: in: ,

आपने DNA  का नाम तो जरूर सुना होगा और उससे भी ज्यादा आपको डीएनए टेस्ट के बारे में तो पता ही होगा । कियोंकि अक्सर फिल्मों और सीरियल्स में इसका जिक्र हो ही जाता है। लेकिन क्या आपने कभी यह सोचा है कि DNA होता क्या है ओर DNA कहां पाया जाता है और यह इतना इंपॉर्टेंट क्यों होता है।

DNA kya hai

अगर इन सारे सवालों के जवाब आप जाना चाहते हैं तो आपको यह पोस्ट देखना होगा क्योंकि आज के इस पोस्ट  में हम आपको डीएनए से जुड़ी सारी खास जानकारियां देने वाले हैं । जैसे  DNA kya hai ,DNA की संरचना इन हिंदी , DNA का पूरा नाम ,डीएनए फिंगरप्रिंट क्या है , डीएनए कितने प्रकार के होते हैं , डीएनए का प्रमुख कार्य , इसलिए इस पोस्ट को पूरा जरूर देखें और डीएनए को आसानी से समझ लीजिए। तो चलिए सुरु करते है और सबसे पहले यह जानते है DNA kya hai 

DNA kya Hota hai ? डीएनए क्या है ? 

यह तो आप जानते ही हैं कि हमारा शरीर सेल से मिलकर बना होता है यानी कि कोशिकाओं से मिलकर और हमारे शरीर की लगभग हर कोशिका में डीएनए यानिकि जेनेटिक कोड पाया जाता है।

सिर्फ आरबीसी यानीकि रेड ब्लड सेल्स में डीएनए नहीं होता है ये DNA हमारी पहचान देता है ये  DNA इतना महत्वपूर्ण इसीलिए होता है क्योंकि इसमें हमारे devlopment   हमारी ग्रोथ   रीप्रोडक्शन और कार्य के लिए निर्देश होते हैं।

अधिकांश डीएनए न्यूक्लियस में पाए जाते हैं जिसे न्यूक्लियर डीएनए कहा जाता है और डीएनए का एक स्मॉल पोर्शन माइट्रोकांड्रिया में भी पाया जाता है जिसे माइटोकांड्रियल डीएनए कहते हैं।

DNA की full from क्या है 

DNA की फुल फॉर्म : deoxyribonucleic Acid   होती है और ये जैविक  नाइट्रोजन चारों से मिलकर बनता है इंसानों में पाए जाने वाले डीएनए में लगभग 3 बिलियन बेसिस पाए जाते हैं और डीएनए का लगभग 99% हर इंसान में सिमलर  होता है।

डीएनए एक लंबी जंजीर जैसा दिखने वाला अनु होता है जो जीवन के अनुवांशिक विशेषताओं को एनकोड करता है वसे  हैरानी की बात यह है कि अगर हमारे शरीर में मौजूद सारे डीएनए को सुलझाया जाए।  तो ये  इतने लंबे होंगे कि सूरज तक पहुंचकर 300 गुना बार आपस  अर्थ पर आ सकेंगे जीन हेरिटेज  मटेरियल होता है । जो सेल न्यूक्लियस में पाया जाता है और यह जींस DNA  के बने होते हैं।

 डीएनए एक घुमावदार सीढ़ी नुमा आकृति बनाता है और सी डबल हेलिक्स कहा जाता है न्यूक्लियोटाइड्स का डबल स्ट्रैंडेड पॉलीमर डीएनए होता है लेकिन सिंगल स्ट्रैंडेड डीएनए भी पाए जाते हैं।

हर न्यूक्लियोटाइड में यह पाए जाते हैं phosphate   एक सुगर  मॉलिक्यूल जिसे डीऑक्सिराइबोस कहा जाता है। इसमे चारों विशेष पाए जाते है । 

  1. Adenine (A) 
  2. Cytosine ( C)
  3. Guanin ( G) 
  4. Thiamin ( T) 

इन चारों बेसिस का क्रम भी आनुवंशिक कोड बनाता है जो  जीवन की सभी जरूरी कामों को करने के लिए हमें निर्देश देते हैं इन बेसिस   के क्रम को डीएनए सीक्वेंस कहा जाता है।

डीएनए आपने स्ट्रक्चर की हूबहू कॉपी बना सकता है यानी डीएनए अपने जैसा नया डीएनए बना सकता है और  ये प्रक्रिया सेल डिविजन के लिए जरूरी भी होती है अक्सर डीएनए बना हुआ नया डीएनए 100% उसके समान ही होता है लेकिन कभी-कभी जब  नया बना डीएनए   पूरी तरह समान नहीं हो पाता है तो वो बॉडी हम्फिलम्यूटेशन की पैदा कर सकता है।

आप डीएनए को एक  पेनड्राइव भी कह सकते हैं क्योंकि डीएनए हमारे शरीर की सारी जानकारी अपने अंदर स्टोर करके रखता है ओर एक  ग्राम डीएनए 700 terabyte  की जानकारी स्टोर कर सकता है तो सोचिए अगर दुनिया भर की इंफॉर्मेशन को आप स्टोर करके रखना चाहते तो आपको सिर्फ 2 ग्राम DNA  की जरूरत पड़ेगी

डीएनए क्या होता है और कहां पाया जाता है यह जानने  के बाद अब सवाल यह है कि डीएनए की खोज किसने की।

DNA की खोज किसने की 

तो DNA  को सबसे पहले Friedrich miescher ने   1969 यानिकि  18 सो 69 में ऑब्जर्व किया लेकिन बहुत सालों तक इस मॉलिक्यूल की इंपोर्टेंस research   का ध्यान अपनी तरफ खींच नहीं पाई लेकिन जब 1953 में यानिकि 9053 में जेम्स वाटसन मॉडल वर्किंग एंड रोजालिंडे डीएनए का डबल हेलिक्स स्ट्रक्चर खोज निकाला तब यह समझा जाने लगा कि यह समझा जाने लगा कि यह डीएनए बायोलॉजिकल इंफॉर्मेशन को कैरी कर सकता है।

इसके लिए वाटसन क्रिक और वैकेंसी 1962 यानी कि 1962 में मेडिसिन का नोबेल प्राइज मिला डीएनए के मॉडल को वाटसन क्रिक मॉडल के नाम से भी जाना जाता है अब डीएनए के इंपॉर्टेंट वर्क  के बारे में भी थोड़ी सी बात कर ली जाए।

डीएनए का महत्व 

डीएनए रिप्लिकेशन ट्रांसलेशन और जेनेटिक इनफॉरमेशन को ट्रांसफर करने के इंपॉर्टेंट काम करता है रिप्लिकेशन DNA के   नकल करने की प्रक्रिया है जिसमें डीएनए अपनी नकल करके अपने जैसा दूसरा डीएनए बना लेता है ऐसा होने से शरीर में क्रोमोसोम्स की संख्या नियंत्रित रहती है और सेल डिविजन  प्रेरित होता है।

 ट्रांसक्रिप्शन के जरिए डीएनए हमारे शरीर में मौजूद MRNA   का निर्माण करता है जेनिटिक information को  एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में ट्रांसफर करना भी DNA  का बहुत ही इंपॉर्टेंट काम होता है। तो चलिए आप DNA के टेस्ट के बारे में जानते है । जिसके बारे में आपने काफी सुना है।

DNA test क्या है ।

  •  हर इंसान की डीएनए में उसकी हेरिटेज की जानकारी होती है।
  •  डीएनए टेस्ट या जेनेटिक टेस्ट किसी जेनेटिक डिसऑर्डर का पता लगाने जेनेटिक म्यूटेशन का पता लगाने के लिए किया आ जाता है 
  • बच्चे में मदर और फादर दोनों की जींस होते हैं और डीएनए टेस्ट के जरिए बच्चे के पेरेंट्स का भी पता लगाया जा सकता है।
  • डीएनए टेस्ट की मदद से किसी भी क्रिमिनल को पकड़ा जा सकता है।
  • डीएनए एक  पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में ट्रांसफर होता है और इस आधार पर डीएनए टेस्टिंग के जरिए यह पता लगाया जा सकता है कि आपके आने वाली जनरेशन के बालों का रंग आंखों का रंग कैसा होगा ।
  • और साथ ही अगली पीढ़ियों में कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती है इसका पता भी लगाया जा सकता है।
  • DNa की मदद से  न्यूबॉर्न बेबीज मे जेनेटिक डिसऑर्डर का पता लगाया जा सकता है ताकि सेवे रहती ही उसका इलाज किया जा सके।
  • इसके अलावा बच्चे की जन्म से पहले भी यानी कि प्रेगनेंसी के दौरान भी  पता लगाया जा सकता है और आजकल तो कुछ ऐसे नई  टेस्ट भी हो रही है डीएनए की जिसमे  यह भी पता लगाया जा सकता है कि आपके पूर्वज दुनिया के किस कोने से आए थे मतलब ओरिजिन कहां से हुआ था।

 खैर ऐसी बहुत सारी जानकारी और बहुत सारी रिसर्च आए दिन डीएनए से जुड़ी हुई आती रहती है और अभी भी इस फील्ड में काफी सारा काम किया जा रहा है और किया जाएगा क्योंकि यह बहुत से जटल विषय है ।

इसी के साथ दोस्तो अब डीएनए के  बारे में इंपोर्टेंट इनफार्मेशन चुके हैं।और कोई Hindi me help यह उम्मीद करता है कि यह इंफॉर्मेशन आपको इंटरेस्टिंग और यूज़फुल जरूर लगी होगी तो कमेंट बॉक्स में जरूर  शेयर कीजिएगा कि आपको कैसी लगी और साथ ही साथ अगर डीएनए के बारे में कोई जानना चाहता है तो प्लीज उनके साथ यह वीडियो जरूर शेयर करें और आगे भी ऐसी ही इनोवेटिव आर इंटरेस्टिंग जानकारियां लेने के लिए एक्जेक्टली अगर अभी तक आपने hindi me help  को सब्सक्राइब नहीं किया है तो सब्सक्राइब कर लीजिए ताकि हर नई  और इनोवेटिव जानकारी सबसे पहले आप तक पहुंचे

No comments:
Write comment