Monday, June 7, 2021

VPN क्या है ? VPN ke fayde - (VPN app)

By:   Last Updated: in: ,

क्या आप ऑनलाइन सिक्योरिटी और privacy को लेकर  के टेंसन  रहते हैं, परेशान रहते हैं। क्या आपको भी लगता है कि आपके prasanl जानकारियां हैकर के हाथ लग जाएगी । और क्या आप ही आपने  ईमेल ऑनलाइन शॉपिंग और बिल पेमेंट को सिक्योर रखना चाहते हैं। अगर हां तो ऐसा करना अब पॉसिबल है क्योंकि ऑनलाइन privacy को सिक्योर करने के लिए VPN available है  । जी हां, लेकिन ये VPN kya Hai ये कैसे आपकी  हेल्प कर सकता है। यह जानने  के लिए आपको यह पोस्ट देखना होगा जो आपकी  बहुत हेल्प करेगा और आपको VPN के बारे में डिटेल में सारी जानकारी मिल जाएगी। full information About VPN 

Vpn kya hai

तो इस  Article को लास्ट तक जरूर देखें  तो चलिए शुरू करते हैं और VPN के बारे में डिटेल में जानते हैं। 

VPN kya hai ? VPN क्या है ? 

 अनसिक्योर्ड वाईफाई नेटवर्क पर वेब सर्फिंग करना या फिर ट्रांजैक्शन करने का मतलब है कि प्राइवेट information ओर  ब्राउजिंग हैबिट को एक्सपोज कर देना । वसे सोचने में ही ये  इतना डेंजरस लगता है लेकिन VPN यानी virtual private Network, public networks use. करते टाइम protected network connection provides कराता है। ये आपके  इंटरनेट ट्रैफिक को एंक्रिप्ट करता है और आपको online  आईडेंटिटी को hide  कर देता है। 

ऐसे में thard party के लिए आपकी online एक्टिविटीज को ट्रक करना , आपके डेटा चोरना  थोड़ा मुश्किल हो जाएगी। vpn आपकी pc , स्मार्टफोन को सरवर कंप्यूटर पर कनेक्ट करता है। ओर आप उस computer के internet connection का यूज़ करके इंटरनेट पर ब्राउज़ कर सकते हैं। 

VPN लीगल होते हैं और इनका यूज पूरी दुनिया में इंडिविजुअल भी करते हैं और companies भी करती है । ताकि आपनी डेटा को हैकर से  बच सकें । इसका यूज़ ऐसी country में भी किया जाता है  जहां पर  highly restricted government. होती है । 

Vpn के बारे इतना जान लेने के बाद ये तो समझ आ ही गया होगा। public network पर आपनी online security के लिए VPN का यूज़ किया जा सकता है  ।

VPN काम कैसे करता हैं ? 

जब आप एक secular VPN server पर connect होंगे तो आपको internet trafficencrypted tunnel से गुजरता है, जिसे  कोई नहीं देख सकता यानी ना तो हैकर ना गवर्नमेंट  और ना ही आपका इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर । यानी आपका deta को रीड  नहीं किया जा सकता। VPN कैसे काम करता है। इसे समझने के लिए दो situation देखते है । 

Without VPN -. यानी VPN के बिना 

With VPN - जब हम बिना VPN के website का Access करते है तो उसका internet service provider   आईएस पी के जरिए साइट पर कनेक्ट कर पाते हैं। ISP  हमें एक यूनिट आईपी एड्रेस ( IP Address )  देता है लेकिन क्योंकि  isp ही हमारा पूरा ट्रैफिक डायरेक्ट और हैंडल करता है और उन वेबसाइट का पता लगा सकता है जिन पर हम visit करते  है।  तो ऐसे में हमारी privacy secular कहा हुई ।तो चलिए अब हम बात करते हैं

 with VPN :- जब हम VPN के साथ इंटरनेट से कनेक्ट होते हैं तो हमारे device पर जो  VPN App होता है उस VPN  क्लाइंट भी कहा जाता है और वह वीपीएन सर्वर से सिक्योर कनेक्शन इस्टैबलिश्ड करता है। हमारा traffic  अभी  भी isp के थुरु पास  होता है लेकिन आई एसपी  इज़ ट्रैफिक की फाइनल डेस्टिनेशन नहीं देख पाता। ओर जिन वेबसाइट पर हम विजिट करते हैं वह हमारा ओरिजिनल आईपी एड्रेस नहीं देख पाती। 

VPN की जरूरत क्यों पड़ी

Vpn को सबसे पहले 1996 यानी 1996 में माइक्रोसॉफ्ट ने develop किया था । ताकि remote employees  उस ऑफिस में बैठकर work  नहीं करते बल्कि बाहर रहते हुए कहीं से भी work  करते हो। वह inpol  कंपनी की इंटरनेट नेटवर्क सिक्योर  एक्सेस ले सके। 

लेकिन जब ऐसा करने पर companies productivity डबल हो तो बाकी companies भी VPN  को अडॉप्ट करने लग गई। ओके तो हमें VPN ka Use  कब कब करना चाहिए। इसके बारे जान लेते है । 

VPN  कब यूज़ करना चाहिए 

अगर आपकी privacy बहुत आपके लिए बहुत इंपोर्टेंट है तो आपको हर बार इंटरनेट से कनेक्ट करते टाइम VPN का यूज करना ही चाहिए। लेकिन फिर भी कुछ situations ऐसी होती है। जिनमे आपको जरूर से VPn का यूज करना ही चाहिए। जिसे  स्ट्रीमिंग के दौरान traveling के दौरान पब्लिक वाईफाई यूज करते टाइम , ओर  शॉपिंग के समय , 

VPN kaise kam karta hai , ओर इसे कब यूज़ करना चाहिए ये जानना interested था हां ना लेकिन अब आगे जानते है कि vpn कितने Type के होते है । 

VPN कितने प्रकार के होते है ? 

Vpn  के दो बेसिक टाइप्स होते हैं। 

  1. Remote - Access VPN 
  2. Site to site VPN 

रिमोट एक्सेस वीपीएन - के जरिए यूजर दूसरे नेटवर्क पर एक private encryption tunnel के जरिए connect हो पाते है । इसके जरिए companies internet server या पब्लिक इंटरनेट से कनेक्ट हुआ जा सकता है।

 साइट टो साइट वीपीएन :-  को राउटर टो राउटर वीपीएन भी कहा जाता है। इस टाइप का यूज़ ज्यादातर कॉरपोरेशन वायरमैन में किया जाता है । खास कर जब एक इंटर प्राइस के कई डिफरेंट लोकेशंस पर हेड क्वार्टर होते हैं।

 ऐसे में site to site VPN ऐसा  क्लोज इंटरनल नेटवर्क क्रिएट कर देता है। जहां पर सभी लोकेशन एक साथ connect हो  सके। इसे इंटरनेट कहा जाता है। VPn से होने वाले benifit को एक साथ देखे तो इसकी यूज़ से आपकी  browser history , Ip address , or location   स्ट्रीमिंग लोकेशन ,  devices and web activity हाइट हो जाती है। 

लेकिन फायदे साथ इसकी कुछ डिसएडवांटेजेस भी है जैसे :- slow speed , no cookies protection , not total privacy ,  इतना secor होने के बफजूद VPN को complete previously provided नही कहा जा सकता है क्योंकि ये हैकर,  गवर्नमेंट ओर Isp से data को हाईड कर सकता है । 

  लेकिन खुद vpn provided चाहे तो आपको detail देख सकते है । तो ऐसे में trast VPN provided से ही service लेना बेहतर होता है। ओर ये सही VPN provided को पता आपको इनवॉइस के जरिए लग जाएगा । 

 Offer VPN efficient speed

  • आपकी privacy secular रहें 
  • Provider should use Latest Protocol 
  • Should have good reputation 
  • Data limits match your requirement 
  • You know the location 
  • You can have VPN access On multiple devices 
  • Cost of VPN should Be Suitable 
  • Highest Encryption Available 
  • You can Have VPN access On multiple 
  • Free trial available 
  • Have the facility To block more ads 

VPN किस - किस device में Connect कर सकते हौ  

VPN को सभी device जो internet से  connect हो सकती है। उनमें वीपीएन का यूज़ हो सकता है और ज्यादातर VPN provide   मल्टीपल प्लेटफार्म पर यह service  दिया करते हैं जैसे लैपटॉप , tablet , स्मार्टफोन स्मार्ट और स्मार्ट टीवी पर बहुत से टॉप provide  अपनी वीपीएन the Best free vpns of 2021 मिल जाएगा  

लेकिन फ्री vpn कुछ limitations हो सकते है जैसे कि data limited जबकि कुछ vpn provide provide paid वर्जन का फ्री tralal कराते है । ऐसे में VPn लेते समय बजट देखा जाना ओबेसलि बात है 

लेकिन इतना जरूर ध्यान रखना चाहिए वह वीपीएन आपके बेसिक future तो जरूर से provide कराता हो जो है privacy  .

दोस्तों इसी के साथ VPN related , जैसे कि VPN kya hai , vpn kaise kam karta hai , VPN kaise use kare , VPN ka Full Form , VPN ke fayde , best VPN important information complete हो गयी है ओर हम यहां पर एक ओर बात आपसे कहना जरूरी समझते है अगर आपने अभी तक मेरा ब्लॉग hindi me help subscribe नही किया तो कर लो ताकि मेरा हर पोस्ट की notification आपको time to time मिलता रहे

No comments:
Write comment